सिनेमाघरों में राष्ट्रगान बजाना जरूरी नहीं, केंद्र की कमेटी तय करेगी अगले नियमः सुप्रीम कोर्ट

loading...

नई दिल्ली: SC ने मंगलवार को अपने अहम फैसले में कहा है कि सिनेमाघरों में राष्ट्रगान बजाना जरूरी नहीं है. SC ने कहा है कि केंद्र सरकार की कमेटी इसे लेकर अगले नियम तय करेगी. आपको बता दें कि अपने रुख में बदलाव लाते हुए केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से आदेश बदलने की अपील की थी. केंद्र ने कहा था कि सिनेमाघरों में किसी Film की शुरूआत से पहले राष्ट्रगान बजाने को अनिवार्य बनाने के उसके पहले के आदेश में बदलाव किया जाना चाहिए. जिसकी आज (9 January) को सुनवाई होनी हुई और कोर्ट ने अपना अहम फैसला सुनाया कि Cinema hall में राष्ट्रगान बजाना अब अनिवार्य नहीं है.

इसे भी पढ़िए :  नीरव मोदी की कंपनी से आभूषण खरीदने वाले 50 अमीरों के ITR की दोबारा जांच करेगा Income tax department

केंद्र ने कहा कि एक Inter Administrative Committee बनाई गई है क्योंकि उन परिस्थितियों और अवसरों को वर्णित करने वाले दिशानिर्देश तय करने के लिए गहन विचार-विमर्श जरूरी हैं जब राष्ट्रगान बजाया जाना चाहिए.सरकार ने कहा कि शीर्ष अदालत तब तक पूर्व की यथास्थिति बहाल करने पर विचार कर सकती है यानी 30 November 2016 को इस अदालत द्वारा सुनाये गये आदेश से पहले की स्थिति को बहाल कर सकती है. सरकार के सुझाव पर ही सुप्रीम कोर्ट ने आज अपना अहम फैसला सुनाते हुए 30 नवंबर 2016 से पहले की स्थिति बरकरार रखा है.

आपको बता दें कि 30 november 2016 के आदेश में सभी सिनेमाघरों में feature film शुरू होने से पहले राष्ट्रगान बजाना अनिवार्य किया गया था. Government ने कहा कि उसने गृह मंत्रालय के अतिरिक्त सचिव (सीमा प्रबंधन) की अध्यक्षता में एक अंतर-मंत्रालयीन समिति बनाने का फैसला किया है जिसमें रक्षा, विदेश, संस्कृति, महिला और बाल विकास तथा संसदीय कार्य मंत्रालय समेति विभिन्न मंत्रालयों के प्रतिनिधि होंगे.

इसे भी पढ़िए :  महात्मा बुद्ध की प्रतिमा खंडित देख भड़का ग्रामीणों का गुस्सा

अपने रुख में बदलाव लाते हुए केंद्र सरकार ने सोमवार (8 January) को उच्चतम न्यायालय को सुझाया कि सिनेमाघरों में किसी Film की शुरुआत से पहले राष्ट्रगान बजाने को अनिवार्य बनाने के उसके पहले के आदेश में बदलाव किया जाना चाहिए. केंद्र ने कहा कि एक अंतर-मंत्रालयीन समिति बनाई गयी है क्योंकि उन परिस्थितियों और अवसरों को वर्णित करने वाले दिशानिर्देश तय करने के लिए गहन विचार-विमर्श जरूरी हैं जब National anthem बजाया जाना चाहिए.

इसे भी पढ़िए :  फिल्म स्टाॅर रजनीकांत ने किया कमाल

Government ने कहा कि शीर्ष अदालत तब तक पूर्व की यथास्थिति बहाल करने पर विचार कर सकती है यानी 30 नवंबर 2016 को इस अदालत द्वारा सुनाये गये आदेश से पहले की स्थिति को बहाल कर सकती है. इस आदेश में सभी Theater में फीचर फिल्म शुरू होने से पहले राष्ट्रगान बजाना अनिवार्य किया गया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

17 − 7 =