जानकी, कण्व व स्टार पेपर मिल से होने वाले प्रदूषण से परेशान नागरिकों ने एनजीटी से की शिकायत, अब मिलेंगे कमिश्नर से

loading...

मेरठ 6 जनवरी। हर प्रकार के प्रदूषण की समाप्ति और उसे फैलाने वालों के विरूद्ध कार्रवाई के लिये नेशनल ग्रीन ट्रीब्यूनल (एनजीटी) के अधिकारियों द्वारा सख्ती से कार्रवाई किये जाने के बावजूद प्रदूषण रोकने के लिये जिलों में तैनात अधिकारियों की लापरवाही और कुछ आम आदमी के स्वार्थ के चलते प्रदूषण है कि रूकने का नाम नहीं ले रहा है। परिणाम स्वरूप केंद्र व प्रदेशों की सरकारों के बजट का एक बड़ा हिस्सा इस काम पर खर्च होने के बाद भी वायु, जल, पर्यारण प्रदूषण बढ़ रहा है।इसके कारण कई जगह बड़ी फैक्ट्रियों से निकलने वाले धूंए से कई प्रकार की घातक बीमारियां बढ़ने की संभावना के साथ साथ जहर उघलने वाली फैक्ट्रियों के कई किलो मीटर दूर मकानों पर धूल, राख व धूंआ जमने के साथ साथ प्रदूषण फैलता जा रहा है।
उदाहरण के तौर बागपत रोड को देखा जा सकता है। परतापुर रोड पर बागपत तिराहे से चलने पर जानकी पेपर मिल, कण्व, स्टार पेपर मिल आदि के द्वारा जो भयंकर तरीके से प्रदूषण फैलाया जा रहा है उससे आसपास के निवासियों का जीना मुश्किल कर दिया और इस रोड पर स्थित अपैक्स सिटी, ग्रीनवुड सिटी आदि के निवासियों द्वारा इस संदर्भ में एनजीटी के निदेशक सहित तमाम अधिकारियों को शिकायती पत्र देने के साथ साथ प्रदूषण रोकने के लिये तैनात अधिकारियों भी शिकायत की जा चुकी लेकिन इनका कहना है कि पता नहीं कौन से कारण है कि इन जैसी फैक्ट्रियों के खिलाफ कोई कार्रवाई आखिर संबंधित अफसर क्यों नहीं कर रहे । बताते चले कि सर्व श्री गरिमा गुप्ता, कपिल कुमार, पूजा, चैधरी प्रदीप, सुमन, शिव कुमार, पारूल, यूके वशिष्ट, अमित, यशपाल, अनुज, संजय, प्रमोद, पीके त्यागी, मंगल सैन आदि द्वारा मेरठ मंडलायुक्त डा. प्रभात कुमार जी से मिलकर इन फैक्ट्रियों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की जाएगी।

इसे भी पढ़िए :  नोएडा पुलिस में Grading System से मचा 'हड़कंप', 11 चौकी इंचार्ज हो गए लाइन हाजिर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

2 × five =