नेपाल को नहीं भाया भारत का ‘तेज स्‍पीड’ इंटरनेट, अब चला रहा चीन का ‘Slow Speed’ इंटनेट

13
loading...

काठमांडो : नेपाल के निवासियों ने शनिवार से हिमालय पर्वत पर बिछी चीन की Optical fiber link के जरिए Internet का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया. इसी के साथ साइबर दुनिया से जुड़ने के लिए उनकी भारत पर निर्भरता समाप्त हो गई.

भारत से मिलने वाली SPEED से कम है चीन के internet की Speed
अधिकारियों के मुताबिक, रसुवागढ़ी सीमा के माध्यम से चीनी फाइबर लिंक द्वारा मिलने वाली इंटरनेट की प्रारंभिक स्पीड 1.5 गीगाबीट प्रति सेकेंड (Gbps) होगी, जोकि भारत से मिलने वाली speed से कम है. बीरतनगर, भैरहवा और बीरगंज के माध्यम से भारत 34 जीबीपीएस की speed मुहैया कर रहा था. उन्होंने कहा कि हिमालय पर्वतों में चीन के ऑप्टिकल फाइबर लिंक का वाणिज्यिक परिचालन शुरू हो गया है. पाल के सूचना एवं संचार मंत्री मोहन बहादुर बासनेत ने नेपाल-चीन सीमा पार Optical fiber link का यहां एक कार्यक्रम में उद्घाटन किया.

इसे भी पढ़िए :  बेगमपुल फ्लाई ओवर प्रकरण: अधिकारियों को अपनी बात समझाने के लिए एमडीए में जुटे व्यापारी

नेपाल टेलीकॉम ने China telecommunication ने किया करार
साल 2016 में सरकारी कंपनी नेपाल टेलीकॉम (NT) ने चीन की सरकार कंपनी China telecommunication ने चीन के माध्यम से नेपाल में इंटरनेट के परिचालन के लिए समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए थे. बासनेत ने कहा कि नेपाल और चीन के बीच स्थापित Optical fiber link देश भर में इंटरनेट बुनियादी ढांचे के विकास में महत्वपूर्ण उपलब्धि होगी. यह Nepal और चीन के बीच आधिकारिक स्तर के साथ-साथ नागरिक स्तर पर भी द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ावा देगा.

इसे भी पढ़िए :  देश में शीर्ष पर दैनिक जागरण, 75वें वर्ष मे पाठक संख्या हुई 7.03 करोड़

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

four − four =