Lohri 2018: क्यों मनाई जाती है लोहड़ी, क्या है कहानी का महत्व

loading...

नई दिल्ली: उत्तर भारत और खासकर पंजाब का सबसे प्रसिद्ध त्योहार है lohri. इस दिन सभी अपने घरों और चौराहों के बाहर lohri जलाते हैं. आग का घेरा बनाकर दुल्ला भट्टी की कहानी सुनाते हुए रेवड़ी, मूंगफली और लावा खाते हैं. लेकिन आपको मालूम है कि ये lohri क्यों जलाई जाती है और इस दिन दुल्ला भट्टी की कहानी का क्या महत्व है. चलिए बताते हैं:-

कैसे मनाते हैं lohri?
पारंपरिक तौर पर lohri फसल की बुआई और उसकी कटाई से जुड़ा एक विशेष त्यौहार है. इस दिन अलाव जलाकर उसके इर्दगिर्द डांस किया जाता है. लड़के भांगड़ा करते हैं. लड़कियां और महिलाएं गिद्धा करती है. इस दिन विवाहिता पुत्रियों को मां के घर से ‘त्योहार’ (वस्त्र, मिठाई, रेवड़ी, फलादि) भेजा जाता है. वहीं, जिन परिवारों में लड़के का विवाह होता है या जिन्हें पुत्र प्राप्ति होती है, उनसे पैसे लेकर मुहल्ले या गांव भर में बच्चे ही रेवड़ी बांटते हैं.

इसे भी पढ़िए :  पहली बार निजामपुर में चढ़ी दलित की बारात, पुलिस फोर्स के साथ दूल्हा पहुंचा दुल्हन के घर

आग का क्या है महत्व?
lohri के दिन आग जलाने को लेकर माना जाता है कि यह आग्नि राजा दक्ष की पुत्री सती की याद में जलाई जाती है. पौराणिक कथा के अनुसार एक बार राजा दक्ष ने यज्ञ करवाया और इसमें अपने दामाद शिव और पुत्री सती को आमंत्रित नहीं किया. इस बात से निराश होकर सती अपने पिता के पास जवाब लेने गई कि उन्होंने शिव जी को यज्ञ में निमंत्रित क्यों नहीं भेजा. इस बात पर राजा दक्ष ने सती और भगवान शिव की बहुत निंदा की. सती बहुत रोई, उनसे अपने पति का अपमान नहीं देखा गया और उन्होंने उसी यज्ञ में खुद को भस्म कर दिया. सती के मृत्यु का समाचार सुन खुद भगवान शिव ने वीरभद्र को उत्पन्न कर उसके द्वारा यज्ञ का विध्वंस करा दिया. वहीं, कुछ लोगों का कहना है कि यह आग पूस की आखिरी रात और माघ की पहली सुबह की कड़क ठंड को कम करने के लिए जलाई जाती है.

इसे भी पढ़िए :  खिड़की खुली और हुए टिकट वेटिंग, छठ पर घर जाने के लिए टिकट का टेंशन।

सुंदर मुंदरिये ! ………………हो तेरा कौन बेचारा, ……………..हो दुल्ला भट्टी वाला, ……………हो दुल्ले घी व्याही, ………………हो सेर शक्कर आई, ……………..हो कुड़ी दे बाझे पाई, ……………..हो कुड़ी दा लाल पटारा, ……………हो.

कौन था दुल्ला भट्टी?
मुगल काल में अकबर के दौरान दुल्ला भट्टी पंजाब में रहा करता था. कहा जाता है कि दुल्ला भट्टी ने पंजाब की लड़कियों की रक्षा की थी. क्योंकि उस समय अमीर सौदागरों को सदंल बार की जगह लड़कियों को बेचा जा रहा था. एक दिन दुल्ला भट्टी ने इन्हीं सौदागरों से लड़कियों को छुड़वा कर उनकी शादी हिन्दू लड़कों से करवाई. इसी तरह दुल्ला भट्टी को नायक की उपाधि से सम्मानित किया गया और हर लोहड़ी को उसी की ये कहानी सुनाई जाती है.

इसे भी पढ़िए :  वाराणसी के विकास कार्यों का जायजा लेने रात में नगर भ्रमण पर निकले पीएम मोदी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

seventeen + nine =