छत्तीसगढ़ : बच्चे जाएंगे टॉयलेट और टीचर खींचेंगे Photo, फरमान पर बिफरे टीचर

46
loading...

रायपुर : स्वच्छता को लेकर पूरे भारत में Campaign चलाया जा रहा है, लेकिन कभी-कभी अति उत्साह में अधिकारी कुछ ऐसे आदेश जारी कर देते हैं, जिनके कारण उनकी खूब छिछालेदारी होती है. अभी कुछ समय पहले बिहार में School Teachers के लिए एक फरमान निकाला गया था कि वे सुबह और शाम गांवों का दौरा कर खुले में शौच करने वालों की photography करेंगे. प्रशासन के इस आदेश का teacher ने खूब विरोध किया था. एक इस तरह का ही मामला छत्तीसगढ़ में देखने को मिला है. यहां धमतरी जिला पंचायत की ओर से स्कूलों को फरमान जारी कर स्कूलों में बने Toilet की Monitoring teacher करेंगे और टॉयलेट करते हुए बच्चों की फोटो खींचकर Whatsapp Group पर भेजेंगे.

इसे भी पढ़िए :  99 रुपए में हवाई सफर का मौका, सिर्फ 7 शहरों के लिए है ऑफर

छत्तीसगढ़ की राजधानी Raipur से विभाजित कर 1998 में धमतरी जिला बनाया गया था. यहां की जिला पंचायत ने एक फरमान जारी किया है. इसके तहत 355 ग्राम पंचायतों के Schools को आदेश जारी किए गए हैं कि स्कूलों में बने मूत्रालय (Toilet) की देखरेख स्कूल teachers करेंगे. इतना ही नहीं ये टीचर अपने Mobile Phone ने Toilet इस्तेमाल करते हुए बच्चों, टॉयलेट के अंदर-बाहर की तस्वीरें, टॉयलेट इस्तेमाल करने के बाद हाथ धोते बच्चों की तस्वीरें खींचकर अधिकारिक व्हाट्सएप्प ग्रुप पर भेजेंगे. फोटो भेजने के लिए मिशन@355 नाम से व्हाट्सएप्प ग्रुप बनाया गया है. खासबात यह है कि photo किस तरह से होगा, इसके भी निर्देश जारी किए गए हैं.

इसे भी पढ़िए :  अब बनेंगे राजस्थान के 3275 गांव स्मार्ट

इस फरमान पर स्कूल टीचरों ने कड़ी आपत्ति दर्ज की है. खास बात यह है कि यह जिला पंचायती राज मंत्री अजय चंद्राकर का गृह जिला भी है. सरकार के इस फैसले पर Teacher Associationके प्रांत संचालक संजय शर्मा ने बताया कि इससे न केवल पढ़ाई बाधित होगी, बल्कि यह आदेश बच्चों की निजता का भी हनन है.

इसे भी पढ़िए :  SBI की चेतावनी, इस छोटी सी गलती से हैक हो सकता है आपका अकाउंट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 × 2 =