आनंद बने विश्व चैंपियन : अद्भुत और अविश्वसनीय रही जीत

loading...

रियाद। विश्व चैंपियन मैग्नस कार्लसन को हराने के बाद विश्वनाथन आनंद ने शानदार लय बरकरार रखते हुए रियाद में विश्व रैपिड शतरंज चैंपियनशिप खिताब जीत लिया। आनंद 48 साल की उम्र में इस खिताब को जीतने वाले सबसे उम्र दराज खिलाड़ी बने। इससे पहले पिछले साल यू्क्रेन के वासिले इवानचुक ने 47 वर्ष की उम्र में इसे अपने नाम किया था। आनंद ने दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी कार्लसन को नौवें दौर में हराकर 2013 विश्व चैंपियनशिप में मिली हार का बदला चुकता कर लिया। उन्होंने 2013 में यह खिताब कार्लसन से हारकर गंवाया था जबकि 2003 में उन्होंने फाइनल में ब्लादीमिर क्रैमनिक को हराकर खिताब जीता था। वह आखिरी पांच राउंड की शुरुआत के वक्त संयुक्त दूसरे स्थान पर थे जब रूस के ब्लादीमिर फेडोसीव और इयान नेपोम्नियाश्चि के भी 15 में से 10.5 अंक थे। आनंद ने टाइब्रेकर में फेडोसीव को 2-0 से हराकर खिताब जीता।आनंद ने 14वें राउंड में सफेद मोहरों से रूस के अलेक्जेंडर ग्रिसचुक को हराने से पहले दो ड्रा खेले। दूसरी ओर कार्लसन को रूस के ब्लादीस्लाव अर्तेमीव ने ड्रा पर रोका जिससे आनंद उनके साथ संयुक्त शीर्ष पर आ गए। आखिरी दौर में आनंद ने चीन के बू शियांग्जी से ड्रा खेला जबकि कार्लसन को ग्रिसचुक के हाथों अप्रत्याशित हार झेलनी पड़ी। पंद्रह दौर के बाद आनंद छह जीत और नौ ड्रा के बाद अपराजेय रहे। इस सत्र में खराब फार्म से जूझ रहे आनंद ने वर्ष का अंत खिताबी जीत से करके नए सत्र के लिए उम्मीदें जगाई हैं।

इसे भी पढ़िए :  'RAAZI': पहला गाना 'ऐ वतन' हुआ रिलीज, दिखा आलिया भट्ट का जासूस बनने का सफर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

17 + fifteen =