ऑफिस में यौन उत्पीड़न लंबी अवधि की समस्या

loading...

वॉशिंगटन: विशेषज्ञों का कहना है कि कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न लंबी अवधि की समस्या है जो मनोवैज्ञानिक क्षति पहुंचा सकती है।शोध में पता चला कि यौन उत्पीड़न का मुख्य लक्ष्य महिलाएं होती हैं लेकिन कई बार पुरुषों को भी इस तरह के व्यवहार का सामना करना पड़ता है।

‘‘अमेरिकन साइकोलाजिकल एसोसिएशन’ के अध्यक्ष एंटोनियो ई पुइन्ते ने कहा कि कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न करने वाले हमेशा वरिष्ठ हों ऐसा जरूरी नहीं है, सहकर्मी, कनिष्ठ, ग्राहक और क्लाइंट भी ऐसा कर सकते हैं। पुइन्ते ने कहा कि कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न नौकरी संबंधी मनोवैज्ञानिक समस्या है।

इसे भी पढ़िए :  तमिलनाडु की अनुकृति वास ने जीता Miss india का खिताब, Miss world मानुषी छिल्लर ने पहनाया ताज

उन्होंने कहा कि मनोवैज्ञानिक शोध ने कार्यस्थल उत्पीड़न के बारे में और इससे रोकने या कम करने के तरीकों पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि हालांकि उत्पीड़न करने वालों के बारे में बहुत सीमित शोध उपलब्ध है जो इस बारे में पूर्वानुमान लगाना मुश्किल बनाता है कि ऐसा कौन करेगा और यह कब और कहां हो सकता है।

इसे भी पढ़िए :  अभिनेताओं को वास्तविक होना चाहिए: रणबीर कपूर

एपीए के ‘‘जर्नल ऑफ आक्यूपेशनल हेल्थ साइकोलाजी’ में छपे शोध के अनुसार, कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न का अनुभव करने के बाद पुरु षों के मुकाबले महिलाओं में ज्यादा प्रतिकूल प्रभाव नजर आते हैं। इन प्रभावों में बेचैनी, अवसाद, खानपान संबंधी विकार, मादक पदार्थ और शराब की लत, तनाव और खुशी का एहसास कम होना शामिल है।

इसे भी पढ़िए :  शौचालय में बच्चा जन्मा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

nineteen − twelve =