गुजरात चुनावः कुछ कारोबारियों को छोड़ समाज का कोई भी भाग यहां खुश नहीं-भरूच में राहुल ने कहा

86
loading...

कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी आज से तीन दिनों तक दक्षिणी गुजरात के दौरे पर हैं। कांग्रेस की नवसृजन यात्रा का यह तीसरा चरण है। राहुल इसी दौरे के दौरान पाटीदार नेता हार्दिक पटेल, दलित नेता जिग्नेश मेवाणी से मुलाकात कर सकते हैं। जंबूसर में रैली को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि देश के हर प्रदेश में मेरा दौरा हो रहा है, मैं हर स्टेट में जा रहा हूं लेकिन पहली बार गुजरात में ऐसा लग रहा है कि समाज का कोई भी भाग खुश नहीं है। पूरे समाज में दुख और मुश्किल है। सिर्फ गुजरात के 5-6 कारोबारी खुश हैं, जिन्हें मोदी सरकार से कोई दिक्कत नहीं है।

राहुल गांधी ने कहा कि ‘गुजरात में किसान रो रहा है. कपास में उन्‍हें यहां चार हजार रुपये प्रति क्विंटल मिलता है और वो भी पूरा नहीं मिलता. टाटा नैनो के लिए मोदी जी ने 33000 करोड़ रुपये कम से कम रेट में बैंक लोन दिया. इससे गुजरात के किसानों का कर्जा माफ किया जा सकता था’. उन्‍होंने लोगों से सवाल किया और कहा कि ‘क्‍या आपने नैनो कार को सड़क पर देखा? यह गाड़ी सड़कों पर कहीं नहीं दिखती. यह है गुजरात मॉडल.

इसे भी पढ़िए :  मथुरा: बदमाशों और पुलिस के बीच एनकाउंटर, लेकिन मारा गया 8 साल का मासूम

राहुल ने कहा कि सड़क पर आज नैनो नहीं दिखती है, ये गुजरात मॉडल है। गरीबों से पानी और जमीन लेकर नैनो को दिया लेकिन फायदा नहीं हुआ। गरीबों से पैसा लेकर अमीरों को पैसा देना ही गुजरात मॉडल है। गुजरात में अगर कोई युवा शिक्षा चाहता है तो उसे 10-15 लाख रुपए खर्च करना पड़ता है। गुजरात मॉडल के जरिए यहां के युवाओं को नहीं बल्कि चीन के युवा को रोजगार मिल रहा है। चीन में हर घंटे पचास हजार लोगों को रोजगार मिलता है। लेकिन हिंदुस्तान में मेक इन इंडिया के तहत 450 युवाओं को रोजगार मिलता है। हमारा मुकाबला चीन से है।

इसके साथ ही कांग्रेस उपाध्‍यक्ष ने कहा कि वे पिछले तीन साल से सत्‍ता में हैं. कितने स्विस खाताधारकों को जेल में डाला गया? बताइये मुझे. एक नाम बता दीजिए, जिसको मोदी जी ने जेल में डाला. विजय माल्‍या बाहर बैठा है, इंग्‍लैंड में मजे ले रहा है.उल्‍लेखनीय है कि राहुल गांधी ने बुधवार से दक्षिण गुजरात के लिए पार्टी के तीन दिवसीय प्रचार की शुरुआत की है, जिसके लिए कांग्रेस उपाध्‍यक्ष बुधवार सुबह वडोदरा पहुंचे. राहुल गांधी कांग्रेस की नवसृजन गुजरात यात्रा के हिस्से के तौर पर एक से तीन नवंबर तक दक्षिण गुजरात के आदिवासी बहुल कई गांवों और शहरों का दौरा करेंगे.

इसे भी पढ़िए :  Bitcoin फिर धड़ाम, भारी नुकसान से निवेशकों के बीच खलबली

क्यों कांग्रेस के लिए जरूरी राहुल का दौरा
भरूच और सूरत दोनों ही जगहों पर पटेल समुदाय के बीच सत्ताधारी बीजेपी को लेकर भारी असंतोष है। ऐसे में राहुल के इस इलाके में दौरे को रणनीतिक तौर पर कांग्रेस के लिए काफी खास बताया जा रहा है। पटेल समुदाय के अलावा भरूच और सूरत के व्यापारियों में जीएसटी और नोटबंदी को लेकर भी बीजेपी के खिलाफ काफी नाराजगी है। कांग्रेस दक्षिणी गुजरात में जेडीयू के नेता छोटूभाई वासवा की अगुवाई वाले दल से मुलाकात कर सीटों के बंटवारे पर अहम समझौता कर सकते हैं। राहुल गांधी के अलावा राज्य में गुजरात चुनावों के प्रभारी अशोक गहलोत भी वासवा से पहले मुलाकात कर चुके हैं। वासवा छह बार विधायक रह चुके हैं और दिल्ली में पिछले शनिवार उन्होंने कांग्रेस अलाकमान से मुलाकात की थी। दोनों पक्ष इस बात पर राजी हुए थे कि गुजरात विधानसभा चुनावों के दौरान दोनों पार्टियां एक साथ आएंगी।

इसे भी पढ़िए :  सुरक्षा में चूक :इंदौर जाने वाला यात्री पहुंचा नागपुर, इंडिगो के 2 सुरक्षाकर्मी सस्पेंड

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

five × two =