पर्यटकों को आकर्षित करता है पंचगनी का ठंडा मौसम और जादुई झरने

loading...

महाराष्ट्र में वैसे तो कई प्रसिद्ध हिल स्टेशन हैं लेकिन सतारा जिले के पंचगनी की बात ही कुछ और है। यह इलाका कई प्रमुख आवासीय शिक्षण संस्थानों के लिए भी प्रसिद्ध है। पंचगनी की खोज ब्रिटिश लोगों ने की थी और गर्मियों में यह ब्रिटिश लोगों के रुकने का स्थान होता था। यह उल्लेख मिलता है कि 1860 के दशक में जॉन चेस्सों नामक अंग्रेज अधिकारी ने यहां पश्चिमी दुनिया के बहुत सारे पौधों की प्रजातियों को लगाया जिसमें सिल्वर ओक एवं पोइंसेत्टिया प्रमुख हैं। पंचगनी की खासियत यह है कि यहां का मौसम साल भर खुशनुमा रहता है इसलिए यह अंग्रेजों की आरामगाह थी।

इसे भी पढ़िए :  Movie Review: जिंदगी को प्रेरणा देती है संदीप सिंह की बायोपिक 'सूरमा', दोसांझ ने दर्शको का 'दिल जीत' लिया

पंचगनी का अर्थ है पाँच पहाड़ियाँ। यह क्षेत्र समुद्री सतह से लगभग 1,350 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। यहाँ का शांत और ठंडा मौसम लगातार गर्म और झुलसे हुए पठार से पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है। यहाँ के पहाड़ जादुई झरनों और सँकरे, छोटी तथा घुमावदार धाराओं से आच्छादित हो जाते हैं।

इसे भी पढ़िए :  रानी मुखर्जी की "हिचकी" शिक्षक दिवस पर रूस में प्रदर्शित होगी

पंचगनी सहयाद्री पर्वत श्रृंखला के पाँच पहाड़ियों के मध्य में है और इसके चारों ओर पांच गांव- दंदेघर, खिंगर, गोद्वाली, अमरल एवं तैघाट हैं भी बसे हैं। कृष्णा नदी यहाँ पास से ही बहती है एवं इस पर एक बांध भी बनाया गया है।

रहने की जगह
पंचगनी कास पठार से लगभग एक घंटे की ड्राइव पर है। यह पुणे से दो घंटे की दूरी पर है। गोवा से आ रहे हैं तो यहां जरूर विश्राम करें। यहाँ रहने के लिए कई होटल, घर और कैम्प इत्यादि हैं।

इसे भी पढ़िए :  कुर्ता पायजामा पहनने पर गोल्फ क्लब लखनउ प्रकरण ड्रैस कोड समाप्त हो, क्लब सचिव आदि के विरुद्ध

मौसम
पंचगनी का तापमान सर्दियों के दौरान 12C के आसपास होता है और कभी कभी गर्मियों के दौरान 34C तक पहुंचता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

18 + 7 =