खुले में शौच करने वालों की टीचर करेंगे फोटोग्राफी, पढ़ाना छोड़ अब सुबह-शाम खेतों का करेंगे दौरा, वजह भी है बड़ी दिलचस्प

loading...

पटना: Clean India Mission के तहत देश को खुले में शौच मुक्त बनाने के लिए सरकार हर संभव कदम उठा रही है. कड़े नियम भी बनाए जा रहे हैं. सरकार के साथ Non government organization भी Awareness फैलाने के लिए नए-नए तौर-तरीके अपनाए जा रहे हैं, बावजूद इसके कुछ लोग अपनी इस आदत से बाज नहीं आ रहे हैं. इस पर Bihar Administration ने एक ऐसा अजीबो-गरीब Decree जारी किया है, जिससे प्रदेश के टीचरों में रोष फैल गया है. ब्लॉक विकास अधिकारी (BDO) ने खुले में शौच करने वाले लोगों पर लगाम लगाने के लिए खुले में शौच करने वालों की Photography करने के निर्देश जारी किए हैं. लेकिन Bihar Teacher Association ने BDO के इस फरमान का यह कहते हुए विरोध किया है कि यह Teachers का अपमान है.

इसे भी पढ़िए :  इंटरनेट से कमाई का popular तरीका, 3 वेबसाइट्स के साथ कमाएं पैसा

बात दरअसल यह है कि Bihar के Aurangabad जिला प्रशासन ने देव ब्लॉक की पवई पंचायत को इसी साल 31 december तक खुले में शौच मुक्त पंचायत बनाने का Aim तय किया है. इस काम में लोगों में Awareness फैलाने के लिए 61 Primary और Secondary Schools के करीब 144 teachers को campaign में शामिल किया था. प्रशासन ने यह भी फैसला किया कि जो लोग समझाने के बाद भी खुले में शौच करने से बाज नहीं आते हैं, उनकी photography कराई जाए. लेकिन Administration के इस campaign से टीचरों ने खुद को अलग कर दिया है. Bihar Secondary Teachers Association (BMSS) का कहना है कि टीचर एसोसिएशन शुरू से ही ODF में सरकार और प्रशासन के साथ है. teachers को इस अभियान में प्रशासन द्वारा दिए निर्देशों को पालन करने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.

Teachers का कहना है कि प्रशासन के इस तरह के फरमान टीचरों की गरीमा को कम करने के साथ-साथ उनकी security को भी खतरा रहता है. BMSS के महासचिव तथा पूर्व सांसद शत्रुघ्न प्रसाद सिंह ने CM नीतीश कुमार को पत्र लिखकर कहा उस फरमान को वापस लेने को कहा है जिसमें teachers को सुबह और शाम गांवों का दौरा कर लोगों को खुले में शौच करने से रोकना है.

इसे भी पढ़िए :  होर्मूसजी कामा चुने गये एबीसी के चेयरमैन, आईना, आईएनएस के सदस्यों ने दी बधाई

18 Nov को कुडनी BDO हरीमोहन कुमार ने एक फरमान जारी करते हुए कहा था, संबंधित सभी टीचरों को आदेश दिया जाता है कि वे सभी ओडीएफ को लेकर लोगों में awareness पैदा करें. इसके साथ ही वे गांवों में सुबह 6-7 बजे और शाम को 5-6 बजे दौरा करें और खुले शौच करते हुए लोगों को रोकें तथा उनके photo खींचें. टीचरों का कहना है कि उन्हें शौच करने वालों का photo खींचने को कहा गया है, ऐसे में महिला या लड़कियों के photos कैसे खींचे जा सकते हैं.

इसे भी पढ़िए :  हमारे नेता ऐसे वादे क्यों करते हैं जो पूरे नहीं हो सकतें?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

one × 5 =