किसानों के लिए वित्तीय पैकेज की घोषणा करें पंजाब सरकार: शिअद

loading...

चंडीगढ़। विपक्षी शिरोमणि अकाली दल (शिअद) ने पंजाब की कांग्रेस सरकार को फसल अवशेषों को निपटाने के वास्ते किसानों की मदद के लिए वित्तीय पैकेज की घोषणा किये जाने की मांग की है। शिअद के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने कहा कि उनकी पार्टी किसान समुदाय के साथ खड़ी रहेगी और ‘‘कांग्रेस सरकार से बिना किसी मदद के अपने बलबूते फसल अवशेष (पराली) को निपटाने के लिए उन्हें (किसानों) परेशान नहीं होने देंगी।’’ उन्होंने कहा ,‘‘ समस्या से निपटने के लिए राज्य सरकार की तरफ से कोई सहायता उपलब्ध कराने में विफल रहने के बाद पराली जलाने के लिए किसानों के खिलाफ कोई भी मामला दर्ज नहीं होने देंगी।’’

इसे भी पढ़िए :  रणबीर दीपिका के साथ फिर काम करेंगे

बादल ने कहा,‘‘ हमारा रूख स्पष्ट है। इस काम में बड़ी लागत आने के कारण फसल अवशेष को निपटाने के लिए किसानों की मदद करने की जिम्मेदारी सरकार की है। सरकार ऐसा नहीं कर सकी तो किसानों का शोषण, चेतावनी और दंड़ित नहीं कर सकती और उनके खिलाफ मामले दर्ज नहीं कर सकती।’’ उन्होंने यहां एक बयान में कहा,‘‘ हम विरोध करेंगे और देश में खाद्य सुरक्षा उपलब्ध कराने वाले पंजाब के बहादुर किसानों को किसी भी तरह से शोषित होने के लिए नहीं छोड़ेगे।’’

इसे भी पढ़िए :  विधान परिषद में जीत सकते हैं भाजपा के 11 सदस्य, वैश्य समाज को खुश करने के लिये डा. सरोजनी अग्रवाल व अशोक कटारिया को बनाया जा सकता है मंत्री सभी उम्मीदवारों ने दाखिल किये नामांकन

बादल ने सरकार से परेशान किसानों के लिए वित्तीय पैकेज तत्काल घोषित करने के लिए कहा। इस बीच एक आधिकारिक प्रवक्ता ने कहा कि कांग्रेस सरकार सभी संबंधित लोगों के हित में पराली जलाये जाने के मुद्दे का समाधान करने जा रही है और उन्होंने अकाली नेताओं के उन आरोपों को खारिज किया कि सरकार किसानों की मदद करने के बजाय उनको ‘‘शोषित’’ कर रही है। प्रवक्ता ने कहा कि किसान समुदाय को दंड़ित करने का कोई सवाल ही नहीं है और मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने इस मुद्दे पर अपनी सरकार के रूख को स्पष्ट किया था।

इसे भी पढ़िए :  आवास विकास के अधिकारी अभियान से ध्यान भटकाने की कोशिश ना करे, वाजपेयी और सोमेन्द्र के निर्माणों को धराशाही करने वालो को अपने कार्यालय के सामने व आसपास हुए अवैध निर्माणों क्यो नही दिखायी दे रहे?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

4 × one =