बच्चों व युवाओं को क्रेजी बना रहा फिजिट स्पिनर

loading...

नई दिल्ली। मेट्रो, बस, पार्क या किसी अन्य सार्वजनिक स्थान पर आजकल बच्चे या युवा एक पंखे जैसे ब्लेड वाला खिलौना दो उंगलियों के बीच घुमाते दिख जाएंगे। यह कोई नया खेल नहीं है, बल्कि स्ट्रेस या तनाव को कम करने का तरीका है और बाजार में इन दिनों तनाव कम करने वाला खिलौना फिजिट स्पिनर खूब बिक भी रहा है।

बच्चों में तो फिजिट स्पिनर एक नया क्रेज बन चुका है। यह इतना ज्यादा लोकप्रिय हो चुका है कि मोबाइल फोन पर गेम खेलने या किसी अन्य गतिविधि के बजाय बच्चे फिजिट स्पिनर को उंगलियों से घुमाना अधिक पसंद कर रहे हैं। अभिभावकों को भी यह पसंद आ रहा है क्योंकि इसके जरिये वे अपने बच्चों को मोबाइल और कंप्यूटर से दूर रख पा रहे हैं। दावा किया जा रहा है कि फिजिट स्पिनर घुमाने से एकाग्रता बढ़ती है और तनाव कम करने में मदद मिलती है।

इसे भी पढ़िए :  वाराणसी में आज बच्‍चों के बीच अपना 68वां जन्‍मदिन मनाएंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

फिजिट स्पिनर तनाव दूर करता है या नहीं, यह शोध का विषय हो सकता है, लेकिन बच्चों में इसे खरीदने की होड़ लगी है। यह इसकी दीवानगी ही है कि आज बाजार में 100 से अधिक प्रकार के तरह-तरह के रंगों और डिजाइनों के प्लास्टिक तथा मेटल के फिजिट स्पिनर धड़ल्ले से बिक रहे हैं। यही नहीं, तमाम ई-कामर्स वेबसाइटों पर भी इनके लिए जमकर आर्डर आ रहे हैं। साधारण प्लास्टिक के तीन ब्लेड के फिजिट स्पिनर का दाम 50 रपये है। वहीं कोम मेटल के तीन से अधिक ब्लेड के अलग-अलग डिजाइनों वाले फिजिट स्पिनर की कीमत 200 रपये से लेकर 1,000 रपये तक है।

इसे भी पढ़िए :  नाक-मुंह सिकोड़कर हल्दी का दूध पीने वालों, हल्दी के ये स्वास्थ्य लाभ जानकर ख़ुशी-ख़ुशी पीने लगोगे

राजधानी के थोक बाजार कन्फेडरेशन आफ सदर बाजार ट्रेडर्स के महासचिव देवराज बवेजा कहते हैं कि सारा मामला मांग का है। कभी यह स्पिनर विदेशों में खूब चला था और आज देश में भी यह फैशन बन गया है। बवेजा का कहना है कि सदर बाजार में अन्य राज्यों से आने वाले लोग भी बेचने के लिए थोक में फिजिट स्पिनर खरीदकर ले जा रहे हैं। इसका सीधा सा मतलब है कि महानगरों के बाद अब छोटे शहरों में भी यह लोकप्रिय हो रहा है।

इसे भी पढ़िए :  जापान के बच्चे सबसे खुशहाल: शोध

जहां तक इसे तनाव दूर होने की बात है, इस बारे में राजधानी के आर एन कालरा अस्पताल के चेयरमैन डॉ. आर एन कालरा मानते हैं कि यह कंपनियों द्वारा अपने उत्पाद को बेचने का गिमिक मात्र है। डॉ कालरा ने कहा कि किसी बच्चे को अगर तनाव है भी, तो इसका सबसे बेहतर तरीका माता-पिता और शिक्षकों द्वारा बच्चों की काउंसलिंग है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

three × two =