पांच से अधिक दवाइयां बुजुर्गों को कर सकती हैं कमजोर

loading...

बर्लिन। वैज्ञानिकों ने एक अध्ययन में पता लगाया है कि ज्यादा दवाइयां किसी को भी कमजोर बना सकती हैं। बीमारी को ठीक करने के लिए हम जो दवाइयां खाते हैं वह हमारी हड्डियों, जोड़ों और नलिकाओं को कमजोर कर सकती हैं।

कार्य करने की क्षमता कमजोर होती है : वैज्ञानिकों का कहना है कि बढ़ती उम्र के साथ अधिक दवाइयों के सेवन से कार्य करने की क्षमता प्रभावित होती है।

कमजोरी मौत के खतरे को बढ़ाती है : कमजोरी का संबंध बढ़ती उम्र, सहन-शक्ति की कमी और अच्छी तरह से कार्य करने में कम सक्षम होना है। कमजोरी बार-बार गिर जाने, विकलांगता और मौत के खतरे को बढ़ा देती है।

इसे भी पढ़िए :  आयकर बार एसोसिएशन ने किया मुख्य आयुक्त का स्वागत

स्वास्य गिरने पर बुजुर्ग ज्यादा दवाएं लेने लगते हैं : जैसे-जैसे हमारी उम्र बढ़ती जाती है, हमें कई तरह की स्वास्य समस्याएं और चिंताएं अपने घेरे में लेने लगती हैं। अक्सर, स्वास्य समस्यायों से निपटने का मतलब होता है कि बुजुर्ग कई तरह की दवाएं ले सकते हैं।

इसे भी पढ़िए :  प्रभारी मंत्री ने किया रोड सेफटी आडिटोरियम व ट्रैफिक पार्क का लोर्कापण

ज्यादा गोलियां खतरे को बढ़ावा देती हैं : अध्ययनकर्ताओं ने कहा, ‘‘बुजुगरे द्वारा एक दिन में पांच या इससे अधिक गोलियों का सेवन करने से उनके स्वास्य पर बुरा प्रभाव पड़ने का खतरा बढ़ सकता है।’

50 से 75 वर्ष के बुजुगरे पर अध्ययन किया गया : ‘‘जर्मन कैंसर रिसर्च सेंटर’ (डीकेएफजेड) और ‘‘हेडलबर्ग विविद्यालय’ के वैज्ञानिकों ने अधिक उम्र के लोगों पर एक विस्तृत अध्ययन कर इस बात का पता लगाया कि पांच से अधिक गोलियों का सेवन करने से बुजुगरे का स्वास्य किस तरह से प्रभावित हो सकता है। इस अध्ययन में करीब 2,000 लोगों ने हिस्सा लिया। अध्ययन में शामिल लोगों की उम्र 50 से 75 वर्ष के बीच थी।

इसे भी पढ़िए :  यूपी में मानसून अगले हफ्ते, उत्तराखंड में 30 जून के बाद मानसून आएगा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

five × 4 =