अमेरिका में भारत के राजदूत रहे नरेश चंद्रा का निधन

127
loading...

पणजी। अमेरिका में भारत के राजदूत रहे नरेश चंद्रा के कई अंगों के काम करना बंद कर देने के कारण रविवार रात यहां एक निजी अस्पताल में उनका निधन हो गया। वह 82 साल के थे। गोवा के मणिपाल अस्पताल के चिकित्सीय सेवा के प्रमुख शेखर सालकर ने कहा, उन्हें शुक्रवार की शाम को बुखार और मांसपेशियों में दर्द की शिकायत के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उन्होंने बताया कि उन्हें उल्टी और दस्त की भी शिकायत थी।

उन्होंने बताया कि इसके बाद उन्हें आईसीयू में भर्ती कराया गया, जहां शुक्रवार की रात दस बजकर 15 मिनट पर उन्हें दिल का दौरा पड़ा और इसके बाद उनके शरीर के कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया। सालकर ने बताया, ‘नौ जुलाई को रात दस बजकर पांच मिनट पर उन्हें दूसरा दिल का दौरा पड़ा, इसके बाद तमाम कोशिशों के बावजूद उन्हें बचाया नहीं जा सका और रात दस बजकर 40 मिनट पर उन्हें मृत घोषित कर दिया गया।
चंद्रा ने साल 1990-92 के बीच मंत्रिमंडल सचिव के तौर पर अपनी सेवाएं दी थीं। इसके बाद साल 1996 से 2001 तक वह अमेरिका में भारत के राजदूत रहे। उन्हें साल 2007 में भारत के दूसरे सबसे बड़े नागरिक सम्मान पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था। अस्पताल के सूत्रों के अनुसार उनके परिवार को सूचना दे दी गई है और अंतिम संस्कार के लिए उनके पार्थिव शरीर को दिल्ली ले जाया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

13 + 1 =