SUPERTECH बिल्डर पर 12 करोड़ का जुर्माना …..

loading...

ग्रेटर नोएडा : यमुना प्राधिकरण ने सुपरटेक बिल्डर पर 12 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है। बिल्डर ने शासन का फर्जी पत्र लगाकर न केवल नए बिलिं्डग बाइलॉज का लाभ उठाकर अधिक फ्लैट बना दिए, बल्कि प्राधिकरण से नक्शा भी पास करा लिया था। 2015 में मामला पकड़ में आने के बाद बिल्डर का नक्शा निरस्त कर दिया गया। बिल्डर के खिलाफ थाने में मामला भी दर्ज कराया गया था। प्राधिकरण ने अब बिल्डर पर 12 करोड़ रुपये का जुर्माना ठोका है।

इसे भी पढ़िए :  चल गई रोडवेज बसों में अब मासिक पास सुविधा भी ऑनलाइन

प्राधिकरण की कार्रवाई के बाद बिल्डर ने एक करोड़ रुपये का जुर्माना प्राधिकरण में जमा करा दिया है। यमुना प्राधिकरण ने 2010 में सुपरटेक बिल्डर को सेक्टर 17 में 100 एकड़ जमीन आवंटित की थी। बिल्डर ने इसे अपकंट्री के नाम से फ्लैट बनाकर बेचे। उस समय के बिलिं्डग बाइलॉज के अनुसार भूखंड के 25 फीसद क्षेत्रफल पर ग्राउंड कवरेज करना था।

इसे भी पढ़िए :  मथुरा के 20 कालेजों में मिला छात्रवृत्ति का घोटाला

प्राधिकरण के सीईओ डा. अरुणवीर सिंह ने बताया कि अब इस मामले में सुपरटेक पर 12 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया गया है। कंपनी ने एक करोड़ रुपये जमा कर दिए हैं। बाकी 11 करोड़ रुपये 15 मई तक जमा करने होंगे। अतिरिक्त ग्राउंड कवरेज को अवैध माना जाएगा। उसे नियमित करवाने के लिए बिल्डर को अतिरिक्त एफएआर परचेज करना पड़ेगा। नहीं तो गलत ढंग से बनाए गए टावरों को गिरा दिया जाएगा।

इसे भी पढ़िए :  अवैध गर्भपात के मामले में तीन डाक्टर गिरफ्तार

srcdj

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

four × two =