हिमाचल प्रदेश की अब दूसरी राजधानी बनी धर्मशाला

loading...

धर्मशाला : बुधवार को हिमाचल प्रदेश की शीतकालीन राजधानी बनी धर्मशाला नगरी गुरुवार को बाकायदा दूसरी राजधानी घोषित कर दी गई है। मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने कहा है कि, धर्मशाला का अलग महत्व व इतिहास है और यह प्रदेश की दूसरी राजधानी बनने के लिए हर तरह से उपयुक्त है।

हालांकि बुधवार को पत्रकारों से बातचीत में बताया गया था कि धर्मशाला प्रदेश की शीतकालीन राजधानी होगी जो दो माह तक काम किया करेगी।प्रदेश के निचले क्षेत्र के जिलों कांगड़ा, चंबा, हमीरपुर व ऊना के लिए धर्मशाला का विशेष महत्व है।

इसे भी पढ़िए :  बसपा सभी सीटों पर अकेले चुनाव लड़ेगी: आहिरवार।

इन क्षेत्रों के लोग इस विशेष दर्जे से लाभान्वित होंगे तथा उन्हें कार्यों के लिए शिमला तक लंबा सफर तय नहीं करना पड़ेगा। धर्मशाला न केवल भारत बल्कि विश्व में धार्मिक, प्राकृतिक व साहसिक पर्यटन सहित अनेक कारणों के लिए प्रसिद्ध है।

इसे भी पढ़िए :  दिल्लीः मंत्री सत्येंद्र जैन की तबीयत में सुधार,केजरीवाल ने दी जानकारी

तिब्बती धर्मगुरुदलाईलामा का निवास स्थान होने से विश्व भर से लोगों का यहां आवागमन होता है। दिसंबर 2005 में शिमला से बाहर हिमाचल प्रदेश विधानसभा का पूर्ण शीतकालीन सत्र आयोजित किया गया था।

तपोवन में पहले ही विधानसभा भवन कार्य कर रहा है और इसकी आधारशिला उन्होंने 2006 में रखी थी। यह शहर पहले ही हिमाचल प्रदेश विधानसभा के 12 शीतकालीन विधानसभा सत्रों को आयोजित करने का गवाह है।

इसे भी पढ़िए :  'आप' मार्च LIVE:PM HOUSE की ओर बढे़ आप कार्यकर्ता, कर रहे हैं नारेबाजी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

twelve − eight =